Back

जनवरी 2011 में, उदयपुर में पेसा पर क्षेत्रीय कार्यशाला

राज्यों अर्थात् राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र और हिमाचल प्रदेश  में पेसा के कार्यान्वयन के लिए भविष्य की कार्यसूची पर चर्चा करने के लिए, 7 जनवरी 2011 को, मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय, उदयपुर में एक क्षेत्रीय कार्यशाला का आयोजन किया गया था। पंचायती राज  के माननीय केन्द्रीय और राज्य मंत्री, पंचायतों के निर्वाचित प्रतिनिधियों, केंद्र और राज्य सरकार के अधिकारियों, गैर सरकारी संगठनों के प्रतिनिधियों, कार्यकर्ताओं और शिक्षाविदों ने कार्यशाला में भाग लिया। एक मूलभूत संस्था के रूप में गांव की परिभाषा; ग्राम सभा और स्वशासन; परंपरागत कानून और सांस्कृतिक पहचान; भूमि अधिग्रहण और प्राकृतिक संसाधनों के स्वामित्व सहित विभिन्न विषयों पर चर्चाएँ आयोजित की गई। कार्यशाला में विचार-विमर्श के परिणाम स्वरूप पेसा के बेहतर कार्यान्वयन के लिए कई सिफारिशें की गईं। कार्यशाला की मुख्य सिफारिशें निम्नलिखित थीं:

 

  • एक फाला एक वार्ड का आधार हो सकता है। एक वार्ड की सीमा एक ग्राम सभा की सीमा को पार नहीं करेगी। वार्ड का गठन एक बस्ती के आधार पर किया जाना चाहिए।
  • ग्राम सभा अंतिम प्राधिकरण होगी, पंचायत ग्राम नहीं। ग्राम पंचायत को केवल ग्राम सभा द्वारा लिए गए निर्णयों को क्रियान्वित करने का अधिकार है। सभी उच्च अधिकारियों के लिए ग्राम सभा के निर्णय का पालन करना आवश्यक है

 

  • ग्राम सभा में विचार-विमर्श के बिना किसी भूमि का अधिग्रहण नहीं किया जा सकता है। प्राकृतिक संसाधनों पर समुदाय का स्वामित्व गैर-परक्राम्य है।

 

  • निर्वाचित प्रतिनिधियों, सरकारी अधिकारियों और आम ग्रामीणों में के बीच पेसा के प्रावधानों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए एक अभियान शुरू करने की जरूरत है।

 

  • पंचायती राज मंत्रालय को निम्नलिखित करने की आवश्यकता है: () जरूरत के अनुसार पेसा का संशोधन () नियम और दिशा निर्देशों को तैयार करने में राज्यों की सहायता () पेसा के कार्यान्वयन का  व्यवस्थापन () ग्राम सभा की क्षमता का निर्माण।

 

  क्षेत्रीय कार्यशाला की पूर्ण कार्यवाही यहाँ उपलब्ध है।